BREAKINGमहाराष्ट्रराज्य

महाराष्ट्र में रहते हैं सबसे अधिक करोड़पति परिवार, राज्य जीडीपी में देता है 16 फीसदी योगदान!

नई दिल्ली। देश में 4.12 लाख ‘डॉलर-मिलियनेयर’ परिवार (7 करोड़ रुपये से अधिक की संपत्ति वाले) हैं, जिनमें सबसे अधिक 56000 परिवार महाराष्ट्र में रहते हैं। एक रिपोर्ट के अनुसार महाराष्ट्र के बाद सबसे ज्यादा डॉलर-मिलियनेयर परिवार उत्तर प्रदेश, तमिलनाडु, कर्नाटक और गुजरात में रहते हैं। देश में कुल करोड़पति परिवारों में से 46 फीसदी इन्हीं राज्यों में रहते हैं। उल्लेखनीय है कि 10 लाख डॉलर से अधिक सालाना आय वाले परिवार को मिलियनेयर डॉलर परिवार कहते हैं। देश में महाराष्ट्र की जीएसडीपी सबसे ज्यादा है और देश की जीडीपी में उसका योगदान करीब 16 फीसदी है। वित्त वर्ष 2013 से 2019 के बीच राज्य की अर्थव्यवस्था सालाना करीब 6.9 फीसदी की दर से बढ़ी है। इसके साथ ही महाराष्ट्र में देश के 247 सबसे अमीर लोग रहते हैं।

उत्तर प्रदेश में मिलियनेयर परिवारों की संख्या 36000 है। राज्य की इकॉनमी पिछले एक दशक से 10.6 फीसदी की रफ्तार से बढ़ रही है। इस सूची में तीसरे स्थान पर तमिलनाडु है, जहां 35000 डॉलर मिलियनेयर परिवार रहते हैं। पिछले 5 वित्त वर्षों से इसकी इकॉनमी सालाना 12.2 फीसदी की रफ्तार से बढ़ी है। राज्य में देश के 65 सबसे अमीर लोग रहते हैं।

इस सूची में कर्नाटक चौथे स्थान पर है, जहां मिलियनेयर परिवारों की संख्या 33000 है। राज्य की इकॉनामी पिछले कुछ सालों में करीब 10 फीसदी की रफ्तार से बढ़ी है और पिछले दो दशक में उसकी प्रति व्यक्ति आय 11 गुना बढ़ी है। रिपोर्ट के मुताबिक देश के 72 सबसे अमीर लोग कर्नाटक में रहते हैं। गुजरात में 29000 डॉलर मिलियनेयर परिवार रहते हैं और इस सूची में राज्य पांचवें स्थान पर है।

गुजरात में देश के 60 सबसे अमीर लोग रहते हैं। टॉप टेन में पश्चिम बंगाल (24000), राजस्थान (21000) और आंध्र प्रदेश (20000) शामिल हैं। मध्य प्रदेश और तेलंगाना में 18000 मिलियनेयर परिवार रहते हैं। जहां तक शहरों की बात हैं तो सर्वाधिक 16,933 डॉलर मिलियनेयर परिवार मुंबई में रहते हैं। 15861 परिवारों के साथ दिल्‍ली दूसरे और 10,000 के साथ कोलकाता तीसरे स्‍थान पर है। डॉलर-मिलियनेयर परिवारों के मामले में बेंगलुरु (7,582) चौथे और चेन्नई (4,685) 5वें स्थान पर है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button