छत्तीसगढ़देश विदेश

ये कैसा प्रकृति प्रेम है सरकार का, सी – मार्ट से क्या ऑक्सीजन मिलेगी – पूजा चौबे

संदीप सिंह, रायगढ़। जिला कन्याशक्ति संयोजिका भाजयुमो पूजा चौबे ने विज्ञप्ति जारी करते हुए कहा की देश,प्रदेश में कोरोना जैसे भयावह महामारी को देखने के बाद जिसमे ऑक्सीजन की कमी से लाखो लोगो को जान गंवाई। सरकार पेड़ो को काट कर कैसा सी मार्ट बनाना चाहती है। अगर सी मार्ट से आक्सीजन मिलता है, तो फिर सभी पेड़ो को काट के सी मार्ट ही बना दिया जाए, वर्तमान में आज हमे जहां करोड़ों पेड़ लगाने की आवश्यकता है, वृक्ष पानी बचाने की आवश्यकता है, वहीं कांग्रेस सरकार द्वारा हसदेव अरण्य,और रायगढ़ के डिग्री कॉलेज रोड मार्ग पर जहां 25 वर्षों पूर्व से हरियाली है ,सबसे अधिक तादाद में पेड़ इसी मार्ग पर है। ,बच्चे बूढ़े अभी भी अपनी शाम इस जगह पर व्यतीत करते है,यदि कोई व्यक्ति सरकारी काम से आए तो इन पेड़ो की छांव पर सुस्ताते है,वहां पेड़ों को लगातार अपने लाभ के लिय काटना ये सरकार की जनता के प्रति कैसी भलाई है, प्रदेश में सबसे अधिक तापमान से रायगढ़ जूझ रहा है,गर्मी से लोग हताश है,विकास के नाम पर हमे कारखाने,मॉल, सी मार्ट नही,अपितु तपन से बचने वृक्ष ही चाहिए..शहर वासियों ने इन पेड़ो को लगाया है और ये पेड़ शहर के है, सरकार के नही,आखिर कब तक कारखाने,कंपनियो,से विकास के नाम पर हम विनाश झेले.. शहर की अधिकतर जनता बीमारियो से जूझ रही है, केवल उसका कारण है पर्याप्त मात्रा में पेड़ पौधों का ना होना,और लगातार प्रदूषण,काले धुएं को निगलना,जो वृक्ष शहर में बच गए है उन्हे काटकर सरकार ये विकास किसके लिए तय कर रही है, ऐसी स्थिति में तो जनता बचेगी ही नहीं,

विधायक,महापौर,सभापति,और प्रशासन से सादर अनुरोध है की संज्ञान ले,तथा तत्काल प्रभाव से पेड़ों की कटाई बंद करें,जिसे हम रायगढ़ शहर को विनाश से बचा सकें,और जो कुछ हिस्सों में हरियाली बच गई है वो हरियाली बनी रहे,हमारा पर्यावरण बचा रहे, अन्यथा शहरवासी पेड़ों के साथ चिपको आंदोलन पर बाध्य होंगे

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button